September 12, 2020

महात्मा गांधी ने आजादी से पहले भी विदेशी आक्रांताओं की आर्थिक रूप से कमर तोड़ने और स्वदेशी कामगारों और व्यवसायों को आत्मनिर्भर बनाने के उद्देश्य से विदेशी चीजों का बहिष्कार कर स्वदेशी अपनाने का आह्वान किया था |
12 मई 2020 को देश को संबोधित करते हुए भी प्रधानमंत्री ने उसी तर्ज पर वह VocalForLocal का नारा दिया और देशवासियों से आग्रह किया कि ना केवल स्वदेशी चीजों का ही उपयोग करना है, बल्कि उन चीजों का प्रचार-प्रसार भी करना है | इससे ना केवल भारत की विदेशी उत्पादों से निर्भरता घटेगी बल्कि भारतीय कामगार, भारतीय व्यवसाय और भारतीय अर्थव्यवस्था भी मजबूत होगी।

आज हम किसी भी विश्व स्तर के ब्रांड के शुरुआती चरण को उठाकर देखें तो पाएंगे कि वह भी एक समय पर लोकल ही था लेकिन वहां के लोगों ने ना सिर्फ उस ब्रांड का स्वयं उपयोग किया बल्कि उसका प्रचार भी किया और कारणवश हम आज उस विशेष ब्रांड की तरफ आकर्षित होते हैं | VocalForLocal का सबसे बड़ा प्रभाव यह भी है कि यह किसी भी देश की Trade deficit को घटाता है जिससे देश की अर्थव्यवस्था मजबूत होती है |

इतिहास से सीखे तो हम पाएंगे कि किसी भी देश के आर्थिक महाशक्ति बनने तथा विकासशील से विकसित देश बनने के सफर में उन देशों के नागरिकों का अहम रोल रहा है | किसी भी देश की सरकार वर्ल्ड ट्रेड ऑर्गेनाइजेशन के नियमों के तहत किसी देश से इंपोर्ट-एक्सपोर्ट पर पूर्णतया रोक नहीं लगा सकती है, लेकिन नागरिक के तौर पर हम स्वतंत्र हैं है की हम किन उत्पादों का उपभोग करना चाहते हैं | VocalForLocal की शुरुआत हमें अपने गांव-शहर, जिला, राज्य में ही निर्मित उत्पादों का उपभोग कर एवं उनका प्रचार प्रसार कर, करनी होगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

X